पार्टी हाईकमान के दखल के बाद आज़ाद नहीं लड़ेंगे जिला महामंत्री रणबीर सिंह निक्का Featured

22 Oct 2017
107223 times

आवाज़ ब्यूरो ( अंकित,अजय, सुजीत,अजीत,तेम्जें,नोबिन,प्रेम, नूरपुर) : हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा जिले में नूरपुर विधानसभा क्षेत्र से जिला महामंत्री रणबीर सिंह निक्का अब आजाद चुनाव नहीं लड़ेंगे | रविवार सुबह प्रेस कांफ्रेंस कर निक्का जी ने कहा की उनकी बात हाईकमान से हुई और अब वो भाजपा के साथ ही चलेंगे | जिला महामंत्री के घर में हुए प्रेस कांफ्रेंस में जम्मू कश्मीर के वन विभाग मंत्री लाल सिंह चौधरी, प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. राजीव भारद्वाज, नूरपुर से भाजपा उम्मीदवार राकेश पठानिया, जिला महामंत्री रणबीर सिंह निक्का, जिला उपाध्यक्ष अतुल सूदन, पार्टी प्रभारी राजेश वर्मा समेत कई कार्यकर्ता मौजूद थे | मीडिया से बातचीत के दौरान राकेश पठानिया ने कहा की नूरपुर में कांग्रेस की ज़मानत ज़ब्त कराएँगे और नूरपुर डिवीज़न के चारो सीटों इंदोरा, फतेहपुर, ज्वाली और नूरपुर पर विजय हासिल करेंगे |

गौतरलब है की 18 अक्टूबर को हुए टिकट वितरण के बाद उठे विद्रोह में ठाकुर रणबीर सिंह निक्का ने आज़ाद लड़ने का फैसला लिया था जिस कारण भाजपा में अफरा-तफरी का माहौल बन गया था लेकिन आज रणवीर सिंह निक्का के आवास पर हुई बैठक के बाद उन्होंने अपना ये फैसला वापस ले लिया | बैठक के बाद हुई प्रेस कांफ्रेंस में ये भी साफ़ हो गया की राकेश पठानिया और रणबीर सिंह निक्का के बीच कोई भी आन्तरिक भेदभाव नही है| प्रेस कांफ्रेंस के दौरान राकेश पठानिया और रणबीर सिंह निक्का ने एक दुसरे को गले लगाया और सारे गिले-शिकवे दूर कर दिए |

टिकट वितरण होने के बाद से ही हिमाचल प्रदेश के अलग अलग विधानसभा क्षेत्र में आपसी गुटबाजी बढ़ गई और कयास लगाये जाने लगे की भाजपा की अंदरूनी लड़ाई से मिशन 50+ को बड़ा झटका लग सकता है | लेकिन पार्टी हाईकमान इसबार कांग्रेस को कोई मौका नही देना चाहती और हर वो कोशिश कर रही है जिससे भाजपा अपने 50+ के मिशन में कामयाब हो सके | वही दूसरी तरफ कांग्रेस ने भी चुनाव को लेकर कमर कस ली है और कोशिश कर रही है की हिमाचल प्रदेश में सत्ता दोहराइ जा सके | 

Rate this item
(0 votes)

Latest from Super User